छत्तीसगढ़ के नवाचार केन्द्र को मिली नीति आयोग की सराहना

alex_paul_menon_indexरायपुर।रायपुर में स्थापित किये जा रहे प्रथम ’36incइन्क्यूबेशन सेंटर’ को केंद्र सरकार द्वारा ‘अटल अभिनव केंद्र’ बनाने के लिए 3 सर्वश्रेष्ठ गैर-शैक्षणिक इन्क्यूबेटरों में से चुना गया है।यह जानकारी देते हुए छत्तीसगढ़ इंफोटेक प्रमोशन सोसायटी (चिप्स) के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलेक्स पॉल मेनन ने शुक्रवार बताया कि पूरे देश से प्राप्त लगभग 2000 आवेदनों में से राज्य के 36inc इन्क्यूबेशन सेंटर का चयन हुआ है। इस केन्द्र की स्थापना के लिए केन्द्र सरकार से दस करोड़ रूपए की धनराशि प्राप्त होगी। नीति आयोग, भारत सरकार की ओर से एक दल ने आज रायपुर के सिटी सेंटर मॉल में बनाये जा रहे राज्य के 36inc इन्क्यूबेशन सेंटर का भ्रमण किया।

                                      इस दल ने अटल अभिनव केंद्र की स्थापना के लिए छत्तीसगढ़ की तैयारी को संतोषप्रद बताया। उन्होंने इन्क्यूबेशन सेंटर की स्थापना के सभी तकनीकी पहलुओं पर राज्य के अधिकारियों के साथ विस्तृत चर्चा की।  दल के सदस्यों ने कहा कि प्रदेश में इन्क्यूबेशन सेंटर के लिए तकनीकी तैयारी भी सुदृढ़ है। इस दल में अटल अभिनव केंद्र की प्रबंधक इशीता अग्रवाल और डॉ. उन्नत पंडित शामिल थे।

                                           एलेक्स पॉल मेनन ने बताया कि यह छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा समर्थित राज्य का पहला कोर इन्क्यूबेशनस-कम-एक्सीलरेटर सेंटर है। राज्य में इलेक्ट्रॅानिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी गतिविधियों के प्रोत्साहन के लिए गठित छत्तीसगढ़ इन्फोटेक प्रमोशन सोसायटी द्वारा 36inc इन्क्यूबेशन सेंटर  की स्थापना की जा रही है। राज्य द्वारा ’छत्तीसगढ़ नवाचार और उद्यमिता विकास नीति’ तैयार की गयी है, जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जारी किया गया है। इस नीति के अंतर्गत ही राज्य शासन ने प्रदेश में 36inc के नाम पर नवाचार केन्द्र खोलने का निर्णय लिया है।

                                       एलेक्स पॉल मेनन ने बताया कि 36inc संस्थान सम्पूर्ण राज्य में नेटवर्क और इनक्यूबेटर-कम-एक्सीलरेटर हब के रूप में कार्य करेगा। इससे रायपुर जैसे नवप्रगतिशील क्षेत्र को वैश्विक स्तर के उच्च क्षमता वाले उद्यमियों के साथ मिलकर काम करने का अवसर मिलेगा। 36inc का मुख्य उद्देश्य एक ऐसे मंच का निर्माण करना है जिसमें सभी को बराबर अवसर मिले। संस्थान में हब और स्पोक मॉडल लगा होगा, जिससे विभिन्न महाविद्यालयों की ई-सेल और महाविद्यालय स्तर के इंक्यूबेटर इस संस्थान से जुड़ेंगे। यह सेंटर राजधानी के मध्य में सिटी सेंटर मॉल में खोला जा रहा है, जहाँ पर लोगों का आना जाना सबसे ज्यादा है। ऐसा करने से न सिर्फ उद्यमियों, उनके कर्मचारियों और अन्य हितधारकों के लिए इस इनक्यूबेटर सेंटर तक पहुंचना सरल होगा, बल्कि मॉल में होने केे कारण शहर के युवाओं को उद्यमशीलता की ओर प्रेरित करेगा। युवाओं पर इसका दीर्घकालिक सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।

                                   36inc सेंटर के लिए लगभग 30 हजार वर्ग फीट की जगह तय की गयी है, जहाँ पर 200 से अधिक वर्क स्टेशन और अनेक मीटिंग रूम-हॉल होंगे। सेंटर के अंतर्गत बनायी जाने वाली अनेक लैब उद्यमियों को बड़ा लाभ प्रदान करेंगे। 36inc  सेंटर इसलिए भी देश में सर्वश्रेष्ठ माना जायेगा क्योंकि इस सेंटर में रैपिड प्रोटोटाइपिंग लैब वाली मशीने होंगी। जिसका उपयोग आईडिया को मूर्त रूप देने मंे किया जायेगा। इस लैब में 3D  प्रिंटर्स मीडिया निर्माण की सुविधा होगी।

                                 चिप्स के मुख्य कार्यपालन अधिकारी एलेक्स पॉल मेनन के अनुसार 36inc इनक्यूबेशन सेंटर का दृष्टिकोण समावेशी होगा। अकादमिक संस्थानों के साथ समन्वय करने के अलावा, 36inc सेंटर में कार्यशालाओं को क्रियान्वित करने और उच्च गुणवत्ता वाले संस्थानों तक पहुंच बनाने के लिए राष्ट्रीय उद्यमिता नेटवर्क (एनएएन) के साथ समन्वय स्थापित किया गया है। साथ ही जमीनी स्तर पर नवाचारों को लागू करने में रुचि रखने वाले उद्यमियों को सहायता पहुँचने के लिए स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के बायर्ससाइन सेंटर के संग समन्वय किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>