“गोल्डन ऑवर ऑफ़ इमरजेंसी” के जीवंत उदाहरण जोगीः डॉक्टरों से साझा करेंगे अपने अनुभव

DOC_MEET_AJIT_JOGI_JCC_INDEXरायपुर|प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री  अजीत जोगी देश के ख्याति प्राप्त चिकित्सकों के बीच अपने अनुभव साझा करते हुए लोगों को अपातकालीन चिकित्सा सेवाओं का महत्व बताएँगे। श्री नारायणा हॉस्पिटल, देवेंद्र नगर, रायपुर द्वारा २३ जुलाई  को होटल कोर्टयार्ड बाई मैरियट, लाभांडी में प्रदेश स्तरीय चिकित्सीय सम्मलेन का आयोजन किया गया है जिसमें अपातकालीन चिकित्सा प्रबंधन के ऊपर महानगरों के विशेषज्ञ डॉक्टरों द्वारा व्याख्यान दिया जाएगा और चिकित्सीय आपातकाल में “गोल्डन ऑवर ऑफ़ इमरजेंसी” के महत्व को बताया जाएगा। इस विषय पर छत्तीसगढ़ का यह पहला सम्मलेन है और भारी संख्या में पूरे प्रदेश के डॉक्टरों द्वारा इसमें भाग लेने की सम्भावना है। अस्पताल प्रबंधकों से प्राप्त जानकारी अनुसार सुबह ९ बजे से विशेषज्ञ डॉक्टरों के वक्तव्य शुरू हो जाएंगे। दोपहर १:२० से १:४० बजे तक देश और छत्तीसगढ़ के डॉक्टरों के समक्ष जोगी मेडिकल इमरजेंसी के दौरान अपने अनुभवों को साझा करते हुए वक्तव्य देंगे।
 
जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के प्रदेश प्रवक्ता सुब्रत डे ने बताया कि श्री जोगी को अपने जीवन में दो बार चिकित्सीय आपातकाल के दौर से गुजरना पड़ा है। पहला जब २००४ में महासमुंद लोकसभा चुनाव प्रचार के दौरान वे एक भीषण रोड दुर्घटना के शिकार हुए थे और दूसरा जब २००५ में दिल्ली में ब्लड प्रेशर गिर जाने के कारण उनका ह्रदय बराबर काम नहीं कर रहा था। गरियाबंद के समीप हुई रोड दुर्घटना में गंभीर रूप से घायल होने के पश्चात पहले उन्हें रायपुर लाया गया था और फिर अपातकालीन उपचार प्रदान करने के पश्चात उन्हें बेहतर उपचार के लिए मुंबई शिफ्ट किया गया था। ह्रदय की तकलीफ होने पर सर्वप्रथम उन्हें दिल्ली स्थित उनके निवास के समीप राममनोहर लोहिया अस्पताल ले जाया गया था और प्राथमिक उपचार मिलने के बाद दिल्ली के एस्कॉर्ट्स हॉस्पिटल भेजा गया था। दोनों बार ही तत्काल उन्हें अपातकालीन चिकित्सा सेवा प्राप्त हो गयी थी जिसकी वजह से उनकी जान बच पायी थी। दोनों घटनाओं के दौरान उनके अनुभवों के माध्यम से जोगी इमरजेंसी मेडिकल सर्विसेज की महत्वता बताते हुए इन सेवाओं को प्रदेश में और मजबूत किये जाने पर अपने विचार रखेंगे। 
 
श्री नारायणा हॉस्पिटल की तरफ से मैनेजिंग डायरेक्टर डॉ सुनील खेमका, प्रबंधक द्वय अतुल सिंघानिया व युवराज खेमका और चिकित्सक डॉ प्रीतम अग्रवाल ने गत दिनों श्री जोगी से मिलकर उन्हें इस सम्मलेन में विशिष्ट वक्ता के रूप में डॉक्टरों को सम्बोधित करने का अनुरोध किया ।क्योंकि गोल्डन ऑवर ऑफ़ इमरजेंसी के दौरान मिलने वाली चिकित्सा सुविधाओं का महत्व लोगों को बताने के लिए वे एक जीवन्त उद्धारण हैं। श्री जोगी ने इस अनुरोध को सहर्ष स्वीकारते हुए कहा कि डॉक्टरों का उनके जीवन में बहुत अहम् योगदान है। इसलिए विशेषज्ञ डॉक्टरों के बीच अपने अनुभव साझा करते हुए लोगों को आपातकालीन विशेषज्ञों का महत्व बताने में उन्हें ख़ुशी होगी। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>