आला अफसरों ने नहीं किया सत्कार..खानसामा पर भड़के हाथीबेड़…कहा…अम्बेडकर की फोटो भी नहीं दिखी…

IMG-20170731-WA0012बिलासपुर— मंथन सभागार में बैठक के दौरान राष्ट्रीय सफाई कामगार आयोग के सदस्य ने अधिकारियों को जमकर फटकारा। निगम आयुक्त की अनुपस्थिति पर भी जमकर बरसा। दिलीप के.हाथीबेड़ ने कहा कि बिलासपुर में क्या केन्द्रीय सचिव और मंत्री का इसी तरह सम्मान किया जाता है। यहां प्रोटोकाल की कोई व्यवस्था नहीं है। कौन आया और कौन गया….अधिकारियों को किसी की परवाह नहीं है। दिल्ली से आया हूं लेकिन यहां प्रोटोकाल की कोई व्यवस्था नहीं देखने को मिली।

                        बैठक में सफाई व्यवस्था पर कम…प्रोटोकाल और अपनी सेवा को लेकर मानद मंत्री जमकर आगबबूला दिखे। दिलीप के हाथीबेड ने कहा कि मैं राष्ट्रीय सफाई कामगार आयोग का सदस्य हूं…। मुझे भारत सरकार ने राज्य मंत्री का दर्जा दिया है। मेरी हैसियत जिला कलेक्टर से अधिक है। बावजूद इसके मेरे स्वागत में ना तो प्रोटोकाल नजर आया। और ना ही कोई बड़़ा अधिकारी…। कलेक्टर भी नदारद रहे।

                    दिलीप के.हाथीबेड़ ने कहा कि बैठक को निगम ने गंभीरता से नहीं लिया है। निगम आयुक्त का नाम पूछते हुए बैठक में मौजूद निगम अधिकारियों को हाथीबेड़ ने फटकारा। उन्होने कहा कि राष्ट्रीय आयोग का राज्यमंत्री दर्जा हासिल व्यक्ति आया है लेकिन निगम आयुक्त ने तवज्जों नहीं दी। बैठक में उपस्थित ना होकर अपने पांच छः मातहतों को भेज दिया। निगम आयुक्त स्वागत करने वालों के साथ नही दिखाई दिए।

                        इस दौरान मानद मंत्री के आक्रोश को अधिकारी सुनते रहे…लेकिन कुछ भी बोलने से बचते रहे। हाथीबेड़ ने कहा कि सचिव दर्जा हासिल होने के बाद भी कलेक्टर ने मेरा ठीक से सत्कार नहीं किया।

              हाथीबेड़ ने जिला प्रशासन से पूछा कि बिलासपुर संभाग जिला है। कलेक्टर कार्यालय में संविधान निर्माता की एक प्रतिमा भी नहीं लगाई गयी है। हाथीबेड़ ने कहा कि लगता है कि यहां के लोग बाबा साहेब को नहीं जानते हैं। मुझे मंथन में और ना मंथन के बाहर प्रतिमा तो दूर फोटो भी नहीं दिखाई दी। देखकर दुख हुआ।

                हाथीबेड़ ने कहा कि मुझे यहां सफाई योजना की समीक्षा के लिए भेजा गया है। मैं राज्य के चार दिन दौरे पर हू। रायपुर में ना तो सफाई दिखाई दी और ना ही सफाई कामगारों की स्थिति ही अच्छी नजर आयी। बिलासपुर में सफाई और कामगारों की स्थिति बहुत बुरी है। केन्द्र सरकार की सफाई मंसूबों पर छत्तीसगढ़ ने पानी फेर दिया है।

 छत्तीसगढ़ भवन में भी बरसे हाथीबेड़

                   छत्तीसगढ़ भवन में कुछ पत्रकारों के सामने हाथीबेड़ खानसामा को जमकर डांटा। उन्होने कहा कि सामान्य और व्हीआईपी में अन्तर की समझ है या भी नहीं। मैं सचिव स्तर का आदमी हूं। मुझे कुछ भी परोसते समय अदब का ध्यान रखा जाए। यदि ऐसा नहीं किया गया तो परिणाम गंभीर होंगे। हाथीबेड ने खानसामा से कहा कि बिस्कीट और पानी परोसने के साथ बड़े और छोटे लोगों में अन्तर और अदब करना सीखो।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>