आजाद ने पढ़ाया देशहित का पाठ,पाण्डेय ने कहा-कर्मयोगी ने दी देश और समाज को नई दिशा

nss_shailesh_pandeyबिलासपुर— सदियों से ब्राम्हण समाज ने देश और समाज को ज्ञान और दिशा देने का काम किया है। जरूरत के समय युद्ध के मैदान में भी नजर आया है। ब्राम्हण ने हमेशा समाज को एकजुटता रखने का काम किया है। यह बातें कांग्रेस नेता और आदित्य वाहिनी प्रदेश अध्यक्ष शैलेष पाण्डेय ने कान्यकुब्ज विकास मंच में चंद्रशेखर आजाद ती जयंती पर कही।
                           कांग्रेस नेता ने कहा कि ब्राम्हण सभी धर्म सम्प्रदाय के लोगों के बीच ज्ञान ध्यान बांटने का काम किया है। सभी को सद्मार्ग पर चलने को कहा है। ब्राम्हणों ने हमेशा देश और समाज के लिए चिंतन किया है। गलत दिशा में जाने वालों को सही रास्ता दिखाया है। सभी समाज के लोगों को एकजुटता का मंत्र दिया है। लेकिन अब लगता है कि ब्राम्हण अब अपने मार्ग विचलित हो रहे हैं। अपील करता हूं कि देश के सभी समाज को राजनीति के कुचक्र से दूर रखें।  यदि समाज में राजनीति ने घर किया तो इसका असर सामाजिक ढांचे पर पड़ेगा। हमारी एकता और देश की अखंडता प्रभावित होगी। व्यवहार पर नकारात्मक असर दिखाई देगा। जैसा की देखने को मिल रहा है। यही कारण है कि लोग भटकाव महसूस कर रहे हैं। इसकी मुख्य वजह ब्राम्हण समाज कहीं ना कहीं अपने आपको दुखी महसूस कर रहा है। यह स्थिति खतरनाक है। ब्राम्हण समाज को अपनी जिम्मेदारियों के साथ एकजुट होकर देश और राज्य के विकास में पहले की तरह कदम से कदम मिलाकर चलना होगा। अन्यथा इसका परिणाम काफी दुखद होगा।

पाण्डेय ने कहा कि ब्राम्हण समाज को छलकपट से दूर रहना होगा। हमेशा की तरह ज्ञान गंगा बहाने का प्रयास करना होगा। यदि ब्राम्हण ने समाज ने अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन ईमानदारी से नहीं किया तो ना केवल समाज का बल्कि देश के एक एक समाज पर नकारात्मक असर पड़ेगा। असर देश की एकता पर भी पड़ेगा।

                     लोगों को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि पाण्डेय ने कहा कि भारत माता के महान सपूत चन्द्रशेखर आजाद ने देश की आजादी के लिए अपने आपको अर्पित कर दिया। इन्ही विचारों के साथ हमें भी आगे आना होगा। पाण्डेय ने कहा चंद्रशेखर आजाद का जन्म झाबुआ के एक आदिवासी गांव में हुआ।  उन्होने छोटी उम्र में बहुत बड़ा काम किया। लेकिन हम भारत मां के महान सपूत की 150 जयंती मना रहे हैं। इससे साबित होता है कि छोटी उम्र में बड़े काम किए जा सकते हैं। लंबा जीवन जी से अच्छा कर्मयोगी बनकर जीना बेहतर है।

आदर्शों में चलने का लिया संकल्प

                      इस दौरान समाज के युवाओं ने चंद्रशेखर आजाद के जीवन पर प्रकाश डाला। आजाद को ब्राम्हण समाज का गौरव बताया। उनके आदर्शों और बताए मार्ग पर चलने का संकल्प लिया।
                          कार्यक्रम को समाज के वरिष्ठ लोगों ने भी संबोधित किया। इस दौरान साल भर की गतिविधियों और भावी योजनाओं पर भी चर्चा हुई। कान्यकुब्ज विकास मंच के प्रदेश अध्यक्ष बी.के.पाण्डेय,  प्रदेश सचिव सिद्वनाथ मिश्रा, साहित्य समिति के अध्यक्ष अमरनाथ पाण्डेय, रघुनाथ प्रसाद दुबे, रायपुर के पूर्व अध्यक्ष अरूण शुक्ला, वर्तमान सचिव संजय अवस्थी,चंद्र प्रकाश बाजपेई, मीरा मिश्रा, सुरेखा दीक्षित, शहर अध्यक्ष संजय तिवारी, अरविंद दीक्षित, सुदेश दुबे साथी, डाॅ. बृजेंद्र नाथ मिश्रा, छेदीलाल शुक्ला, डाॅ.राजीव अवस्थी, वसंत बाजपेई, अनुराग बाजपेई,गोपाल तिवारी, गोविंद तिवारी, समेत बड़ी संख्या में कान्यकुब्ज समाज के पदाधिकारी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>