अमित बोले-आदिवासियों की बदहाली देखने क्यों नहीं जाते साय


amit_jogiरायपुर।राष्ट्रीय अनुसूचित जाति जनजाति के अध्यक्ष  नंदकुमार साय द्वारा बिलासपुर कलेक्टरेट में एक सरकारी अधिकारी पर  अजीत जोगी  के विरुद्ध एफआईआर दर्ज करने का दबाव बनाने और तुकलकी फरमान जारी करने पर मरवाही विधायक अमित जोगी ने कड़ा विरोध दर्ज किया है। अमित जोगी ने कहा कि बौखलाहट में नंदकुमार साय अपने उच्चगरिमय और संवैधानिक पद का दुरूपयोग कर असंवैधानिक और गैर क़ानूनी काम कर रहे हैं। एक संवैधानिक पद पर बैठे व्यक्ति को इस स्तर की राजनीति करना शोभा नहीं देता।
(सीजी वाल के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं।आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

                                   अमित जोगी ने कहा कि साय वो खिसयानी बिल्ली हैं जो चौदह वर्षों से एक ही खंबे को नोच रही है। जोगी ने साय को हिदायत देते हुए कहा कि  मैं आपसे छोटा हूँ लेकिन कभी-कभी बौखलाहट छोड़कर छोटों की भी बात माननी चाहिए। चौदह साल तक लगातार जोगी की जाति का झूठा प्रचार करने के बजाय अगर आप आदिवासियों के हितों की बात करते तो शायद छत्तीसगढ़ में आप सक्रिय राजनीति में बने रहते” । अभी भी देर नहीं हुई है अगर वाकई आदिवासी हित के लिए कुछ करना चाहते हैं तो  बस्तर और सरगुजा जाईये।  छत्तीसगढ़ भवन के एसी कमरे में जोगेरिया ग्रसित लोगों के साथ मिलकर षड़यंत्र रचने से छत्तीसगढ़ के आदिवासियों का भला नहीं होगा”।    

                               अमित ने कहा कि पोलावरम में हजारों आदिवासी बेघर हो रहे हैंडूब रहे हैं लेकिन आज तक नंदकुमार साय झाँकने तक नहीं गएउन आदिवासियों के लिए कौन लड़ रहा है -जोगी। बस्तर में आदिवासियों अत्याचार हो रहा है लेकिन साय को उनकी चीखें सुनाई नहीं पड़ रही है- वहां कौन आंदोलन कर रहा है- जोगी। सरगुजा में आदिवासी भूख से मर रहे हैंउन्हें जंगल से बेदखल किया जा रहा हैउनका वन अधिकार पट्टा निरस्त किया जा रहा हैलेकिन नंदकुमार साय ने अपनी आँखें बंद कर रखी है- वहां कौन भूख हड़ताल पर बैठावहां सामंतवाद और प्रशासनिक आतंकवाद के खिलाफ कौन लड़ रहा है- जोगी। 

                             अमित जोगी  ने साय से कहा कि साय इस ग़लतफहमी में न रहें कि चार लोग मिलकर जनता का जनादेश बदलने का काम करेंगे और इस देश की न्यायपालिका हाथ में हाथ धरे बैठी रहेगी। रायगढ़ लोकसभा चुनाव के दौरानजोगी जी के विरुद्धजनता को गुमराह करनेनंदकुमार साय ने असली-नकली आदिवासी का मुद्दा उठाया था। रायगढ़ की जनता ने साय को बुरी तरह पराजित कर बता दिया कि कौन असली आदिवासी है और कौन आदिवासी, ‘नकली’ का भ्रामक और झूठा प्रचार करता है। इसके बाद सायजोगी जी के विरुद्ध मरवाही में खड़े हुए और यहाँ भी असली-नकली के मुद्दे के मुद्दे को उछाला । लेकिन वहां भीमरवाही की जनता ने जोगी जी को एतिहासिक बहुमत से विजयी बनाकरनंदकुमार साय के मुंह पर जनादेश का ऐसा तमाचा मारा था कि वे मरवाही जाना भूल गए और उसके बाद याचिकाकर्ता बन बैठे।

                             अमित ने कहा कि भाजपा प्रत्याशी हार के रूप में मिले जनादेश को पचाना सीखें । बैकडोर से आकर घिनौनी राजनीति कर कुछ हासिल नहीं होगा। जोगी ने कहा कि साय और उनके उनके साथ मिलकर षड़यंत्र करने वाले सभी लोगों को एक बार फिर न्यायालय में मुंह की खानी पड़ेगी । माननीय हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट एक बार फिर हमे सम्मानित न्याय देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>